देश में इलेक्ट्रिक वाहनों (EV) के दाम बैटरी की कीमतें बढ़ने से 7-10% बढ़ सकते हैं

इस साल लिथियम आयन बैटरी पैक औसतन 7% दुनियाभर में महंगे हुए हैं

 EV बैटरी की कीमतें सबसे ज्यादा 50-60% भारत में  बढ़ गई हैं

CEO संयोग तिवारी ने  बताया  सरकार ने बैटरी संबंधी नियम सख्त कर दिए हैं

सरकार के सख्त नियम  EV में आग लगने की घटनाएँ  होने के  कारण हुई है

सभी वाहन  कम्पनियाँ अपने नए मॉडलों के दाम 5-15% तक बढ़ाने की घोषणा कर चुकी हैं

एक्सपर्ट संजीव गर्ग ने बताया इससे टू-व्हीलर कंपनियों की लागत 15% तक बढ़ी है

 45-50 फीसदी बैटरी की हिस्सेदारी इलेक्ट्रिक वाहन की कीमतों  में होती है

बैटरियों की टेस्टिंग के लिए दिसंबर के बाद से AIS 156 स्टैंडर्ड लागू हो जाने वाला है

बैटरी में इस्तेमाल होने वाले BMS, IC जैसे कई इलेक्ट्रॉनिक्स पार्ट्स और खनिजों के दाम मेहेंगे हो गए है