देश में तंबाकू उत्पादों और  सिंगल सिगरेट बेचने पर रोक लगाने का संसद की स्थायी समिति ने प्रस्ताव दिया है

 समिति के प्रस्ताव से तंबाकू नियंत्रण अभियान प्रभावित होगा और सिंगल सिगरेट से खपत भी काम बढ़ेगी

समिति ने  एयरपोर्ट के स्मोकिंग जोन को बंद किए जाने की सिफारिश भी की है

 GST लागू होने के बाद भी तंबाकू उत्पादों पर समिति के अनुसार टैक्स में ज्यादा वृद्धि नहीं हुई है

 समिति की संभावना अब यह है की आम बजट बढ़ने  में तंबाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ोतरी होगी

कैंसर की बढ़ती  आशंका से  गुटखा, सुगंधित तंबाकू और माउथ फ्रेशनर के नाम से बिकने वाले उत्पादों पर भी रोक लगे

कैंसर पीड़ितों के  इलाज में तंबाकू उत्पादों से मिलने वाले टैक्स का इस्तेमाल किया जाएगा

साथ ही तंबाकू के खिलाफ जागरूकता फैलाने में बची हुई धन राशि का उपयोग किया जायेगा

वॉलेंटरी हेल्थ एसोसिएशन ऑफ इंडिया  के प्रस्ताव के अनुसार प्रति बीड़ी 1 रुपए और सिगरेट की 12 रुपए की जनि चाहिए

स्मोक फ्री सिगरेट पर 90% टैक्स बढ़ाया जाए जाने से  बीड़ी की खपत में 48%, सिगरेट में 61% और तंबाकू की खपत में 25% की कमी आ सकती है